नोर्मल डिलिवरी के लिए करने चाहिए ये योगासन

0
211

नई दिल्ली/आर्ची तिवारी। आज सभी गर्भवती स्त्रियां नोर्मल डिलिवरी चाहतीं हैं क्योंकि ऑपरेशन से उनके शरीर का आकार बिगड़ने की संभावना बनी रहती है. वहीं आपरेशन के कारण होने वाले बच्चे को संभालने में भी दिक्कत का सामना करना पड़ता है. तो आज हम आपको हर तिमाही में ऐसे सरल और सधारण योगासन बताएंगे जिससे महिलाओं की यह सभी चिंताऐं दूर हो सकती है और वे सभी एक हष्ट-पुष्ट बच्चे को जन्म दे सकती हैं.

ये भी पढ़े बस ये 5 प्राणायाम किसी भी बिमारी को कर सकते हैं जड़ से खत्म.

पहली तिमाही में

  • वीरभद्र आसन
    यह आपके पूरे शरीर के लिए फायदेमंद होता है। पूरे शरीर में एक नई स्फूर्ति प्रदान करता है और गर्भ में पल रहे बच्चे को भी शक्ति देता है.
  • त्रिकोण आसन
    यह गर्भावस्था में शरीर के पाचन क्रिया को स्वस्थ रखता है और इससे महिलाओं का शरीर लचीला बना रहता है.
  • वृक्षासन
    इससे पैर, पीठ और बाजुएं लचीली होती हैं और ध्यान लगाने में भी सहायता मिलती है.

ये भी पढ़े गर्मियों में दमकती त्वचा के लिए ये घरेलू स्क्रब हैं सबसे फायदेमंद

दूसरी तिमाही में

  • वज्रासन
    यह योगासन गर्भावस्था के समय पाचन की समस्या को दूर करने में सहायक होता है. यह गर्भाशय में खून की बहाव को बेहतर करता है, जो गर्भावस्था में अच्छा होता है.
  • मत्स्य क्रीणासन
    इस आसन से पाचन क्रिया में मदद मिलती है. साथ ही कब्ज के समस्या से भी राहत मिली है. इसके अलावा, पैरों की नसों को भी आराम मिलता है.
  • मार्जरी आसन
    श्रोणि की मांसपेशियों को टोन करने में मदद मिली है. साथ ही रीढ़ और कंधों की मांसपेशियों में लचीलापन आता है.

ये भी पढ़े ब्रेन में इस हार्मोन की कमी से हो सकते हैं डिप्रेशन के शिकार ,जानें कैसे अवसाद में बदल जाती है चिंता और तनाव

तीसरी तिमाही में

  • अर्ध तितली आसन
    यह कूल्हों के जोड़ों को आरामदायक अवस्था में लाने के लिए अच्छा आसन है. इससे प्रसव की प्रक्रिया को आसान करने में मदद मिलती है.
  • पूर्ण तितली आसन
    यह जांघ की मांसपेशियों को राहत देता है और पैरों की थकान को दूर करता है.
  • चक्कीचलनासन
    श्रोणि और पेट की नसों और मांसपेशियों को टोन करने का कार्य करता है और उन्हें प्रसव के लिए तैयार करता है.

ये भी पढ़े Covid 19 के दौरान जरूरी है सही खानपान, जानिए क्या है UNICEF की गाइडलाइन्स

हर तिमाही में इन सभी आसनों को करने से महिलाएं खुद ही एक स्फूर्ति का संचार अपने अंदर होता देखेगीं. इन आसनों से न ही केवल माता को बल्कि गर्भ के बच्चे को भी विकास में सहायता मिलती है और मां के साथ साथ बच्चा भी तंदुरुस्त होता है. यह सभी आसन गर्भावस्था के दौरान करते रहना चाहिए इससे प्रसव के समय शरीर में लचीलापन और शक्ति बनी रहती है जिसके कारण नोर्मल डिलिवरी होने की संभावना अधिक होती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here