भारत-रूस-चीन की वर्चुअल मीटिंग में रूस ने किया भारत का समर्थन

0
254
india vs china
india vs china

नई दिल्ली/आर्ची तिवारी। मंगलवार को भारत, चीन और रूस के विदेशमंत्रियों के बीच हुई बातचीत में कई अहम बातें सामने निकल कर आईं. नाजियों पर रूस की जीत के 75 साल पूरे होने पर रूस, भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की मीटिंग हुई. इससे पहले रूस के साथ ये मीटिंग 2017 में हुई थी उस समय की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज थी.

ये भी पढ़ें 48 घंटे के अंदर उत्तर भारत में मानसून देगा दस्तक IMD ने दी जानकारी

गलवान घाटी की घटना पर रूस का बयान


15 जून को लद्दाख के गलवान घाटी में हुई झड़प को लेकर रूस ने अपना नजरिया साफ करते हुए कहा कि “भारत और चीन को किसी बाहरी की मदद की जरूरत नहीं है. जब देश का मामला हो तो उन्हें कोई मदद नहीं चाहिए। हाल की घटनाओं के बारे में मैं यह कहना चाहता हूं कि भारत और चीन इसे खुद सुलझा लेंगे.”
यह दो देशों का सीमा विवाद है और यह उनका आंतरिक मामला है. रूस को भरोसा है कि दोनों देश सूझबूझ के साथ अपने इस विवाद को जल्द ही सुलझा लेंगे.

ये भी पढ़ें पीएम फंड से जारी हुए 2000 करोड़, अस्पतालों को मिलेंगे 50000 नये वेन्टीलेटर्स

17 जून को फोन पर हुई जयशंकर की वांग ई से बात

15 जून को गलवान घाटी पर हुई झड़प में भारत के 20 जवानों ने शहादत दी थी वहीं अब चीन ने भी मान लिया है कि उसके यहां भी सैनिकों की मौत हुई है. इन सबके बीच अब LAC पर तल्खी अलग स्तर पर पहुंच गई है. इस पर 17 जून को भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने और चीन के वांग ई ने एक-दूसरे से फोन पर बात की जिसमें LAC पर हुए विवाद को लेकर काफी देर तक बातचीत होती रही. हालांकि, आज झड़प के बाद पहली बार जयशंकर और वांग ई वर्चुअल मीटिंग के दौरान आमने-सामने आए और मामले पर चर्चा की. वहीं आज विदेश मंत्रालय की तरफ से यह सूचना मिली है कि भारत और चीन की दोनों सेनाएं सीमा से पीछे हटेंगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here