#MeToo campaign in Bollywood: अनुराग कश्यप से पहले इन लोगों पर भी लग चुके हैं उत्पीड़न के गंभीर आरोप, पढ़े पुरी खबर

0
136
pratibimb news
pratibimb news

नई दिल्ली/ दीक्षा शर्मा। Me Too यानी ‘मैं भी’ या ‘मेरे साथ भी’ यह मूवमेंट 2018 में काफी चर्चा में रहा. इतना ही नहीं इसे 21 वीं सदी का सबसे बड़ा मूवमेंट भी कहा गया. 25 सितंबर 2018 से यौन उत्पीड़न की शिकार ढेर सारी महिलाएं सोशल मीडिया पर #MeToo के साथ अपनी कहानियां बताई थी.#Metoomovement की शुरुआत करीब 2017 में हुई और उस समय महिलाओं के यौन शोषण के आरोपियों की लिस्ट लंबी होती जा रही थी. महिलाओं पत्रकार से लेकर एक्टिंग की दुनिया से जुड़ी लड़कियों ने खुद के साथ हुई तमाम तरह की जबरदस्तियों का ब्योरा दिया है.

ये भी पढ़ें जानिए कौन है अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली एक्ट्रेस पायल घोष?

कैसे शुरू हुआ ये आंदोलन

अक्टूबर 2017 में जब अमेरिका में #MeToo आंदोलन चला, तो इसका कुछ असर भारत में भी देखने को मिला. कई महिलाओं ने बताया कि कैसे उनके वर्क प्लेस पर उनका यौन उत्पीड़न किया गया. लेकिन, भारत में यह आंदोलन सही मायनों में 25 सितंबर 2018 को शुरू हुआ था, यह मामला तब गरमा गया था जब से एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर फिल्म के सेट पर जबरदस्ती का आरोप लगाया था तब से ही कई और लड़कियां सामने आ रही थी.

ये भी पढ़ें यौन शोषण के आरोप पर अनुराग कश्यप ने दी सफाई, क्या कहा देखें

फिर एक बार #Me Too आया चर्चा में

गैंग्स ऑफ़ वासेपुर, मसान, उड़ता पंजाब जैसी फ़िल्में बनाने वाले मशहूर फ़िल्ममेकर अनुराग कश्यप के ऊपर एक्ट्रेस पायल घोष ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगया है. इस आरोप के बाद से एक बार फिर मीटू मूवमेंट चर्चा में आ गया है. दरअसल, कुछ दिन पहले पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर उत्पीड़न का आरोप लगया है. यह मामला तकरीबन 5-6 साल पुराना है, लेकिन पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर इस समय आरोप लगाया है. एक्ट्रेस पायल घोष का कहना है कि फिल्ममेकर अनुराग कश्यप ने उन्हें घर बुलाकर उनके साथ जबरदस्ती की थी.

ये भी पढ़ें यौन शौषण के आरोप के बाद अनुराग कश्यप की ये तस्वीरें हुई वायरल, लोगों ने जमकर उड़ाया मजाक

लेकिन ऐसा नहीं है कि पहला नाम अनुराग कश्यप का ही हो. अनुराग कश्यप से पहले भी इस लिस्ट में अनेकों नाम हैं इसमें अनुराग कश्यप के प्रोडक्शन हाउस फैंटम में सहयोगी रहे विकास बहल से लेकर वरुण ग्रोवर तक नाम आ चुका हैं.

नाना पाटेकर- यह मामला बॉलीवुड इंडस्ट्री में तभी चर्चा में आया था जब एक्टर्स तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर के ऊपर गंभीर आरोप लगाए था. तनुश्री ने कहा था साल 2008 में हॉर्न ओके प्लीज़ के सेट पर नाना ने उनका यौन उत्पीड़न किया था. तब उन्होंने एक केस भी दर्ज करवाया था, लेकिन कोई भी कार्यवाही नहीं हुई. इसके बाद उन्होंने साल 2018 में मीटू मूवमेंट के दौरान वापस अपनी आवाज़ उठाई.

आलोक नाथ- लोगों का गुस्सा तब चरम पर पहुंच गया जब संस्कारी बाबू की इमेज़ वाले अलोक नाथ का नाम भी मीटू में लिया गया. टीवी राइटर और डायरेक्टर विनिता नंदा ने फेसबुक पोस्ट लिखकर आलोक नाथ पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे. विनिता ने बताया कि 19 साल पहले शो के सेट पर अलोक नाथ ने उनका उत्पीड़न किया था.

विकास बहल- फ़िल्ममेकर विकास बहल पर एक महिला सहयोगी ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगया था. महिला ने बताया कि फ़िल्म बॉम्बे बेलवेट के प्रोमोशन के दौरान गोवा में विकास ने ड्रग्स देकर यह हरकत की थी.

वरुण ग्रोवर- गीतकार और स्टैंडअप कॉमेडियन वरुण ग्रोवर पर भी उत्पीड़न के आरोप लग चुके हैं. एक महिला ने आरोप लगया कि साल 2001 में एक प्ले के रिहर्सल के दौरान वरुण ने उनके साथ गलत हरकत की थी.

रजत कपूर-  फ़िल्ममेकर और एक्टर रजत कपूर भी उत्पीड़न के आरोप में फंसे हुए हैं. कुछ महिलाओं ने सोशल मीडिया के जरिए रजत पर आरोप लगाए हैं कि रजत कपूर ने भी महिलाओं का उत्पीड़न किया है.

 इन सेलेब्स के अलावा गायक कैलाश खेर और अभजीत भट्टाचार्य का नाम भी मीटू मूवमेंट में आया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here