इस देश में अब शादी करने पर सरकार देगी 4.20 लाख रुपये, लेकिन ये हैं नियम

0
280
pratibimb news
pratibimb news

नई दिल्ली/ दीक्षा शर्मा। यह दुनिया जितनी बड़ी है, उतनी ही इस दुनिया में अजीबो गरीब चीजें भी हैं. हर देश में सरकार अपनी जनता के लिए अलग अलग योजनाएं और स्क्रीम निकलती है. इस दुनिया में कई ऐसे भी देश हैं जो शादी करने और संतान पैदा करने के लिए नगदी और अन्य सहूलियत दे रहे हैं. हो सकता है यह स्क्रीम सुनने में थोड़ी अजीब लगे, लेकिन ये सच है. दरअसल इन देशों में पिछले कुछ साल से लगातार जन्म दर गिर रही है. ऐसे में इन देशों की सरकार ने जन्म दर को बढ़ाने के लिए कई योजनाएं बनाई हैं.

दुनिया के 100 प्रभावित लोगों में शामिल हैं PM Modi, पढ़ें क्या है खास

जापान सरकार ने गिरती जन्म दर को काबू में लाने के लिए अप्रैल से एक योजना शुरू की है. इस योजना के तहत सरकार घर बसाने वाले जोड़ों को 4 लाख़ 20 हजार रुपये प्रोत्साहन के तौर पर देगी. दरअसल जापान में तेजी से जन्म दर गिर रही है और बुजुर्गों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. ऐसे में जापान की सरकार ने जन्म दर बढ़ाने के लिए अप्रैल महीने से बड़े पैमाने पर कार्यक्रम शुरू किए हैं.

CM Yogi प्रदेश वासियों को देंगे जल्द बड़ा तोहफा, इस जिले से शुरू होंगी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें

आपको बता दें कि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन और सोसाइटी सिक्योरिटी रिसर्च के एक सर्वे के अनुसार साल 2015 में 29.1 प्रतिशत पुरुष और 17.8 प्रतिशत महिलाएं जिनकी आयु 25 से 34 है, पैसों की कमी के कारण शादी नहीं कर पाए. दरअसल, लोग देर से शादी करते हैं या अविवाहित रहते हैं तो इसके लिए देश की जन्मदर पर प्रभाव पड़ता है. इसे ठीक करने के लिए सरकार यह स्कीम लेकर आई है. लेकिन योजना में शामिल होने के लिए सरकार ने कुछ शर्तें रखी हैं.

कोरोना को लेकर आज PM मोदी की 7 राज्यों के CM संग अहम बैठक, जाने आपके राज्य का क्या है हाल

पति और पत्नी की आयु शादी की पंजीकृत तारीख के अनुसार 40 वर्ष से कम होनी चाहिए. कुल आय 38 लाख रुपए से कम होनी चाहिए. वे ही इस सहायता कार्यक्रम के लिए पात्र होंगे. 35 की आयु वालों के लिए नियम थोड़े अलग है. इनकी आय अगर 33 लाख रुपए है तो उन्हें लगभग 2.1 लाख रुपए दिए जाएंगे. 

जापान की आबादी करीब 12.68 करोड़ है. इसके अलावा पिछले साल जापान में ऐतिहासिक रूप से सबसे कम 8 लाख 65 हजार बच्चों का जन्म हुआ. जन्म की तुलना में मौत का आंकड़ा पांच लाख 12 हजार ज्यादा रहा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here