सूर्य ग्रहण के दौरान हमें इन चीजों से रहना चाहिए सावधान

0
298

नई दिल्ली/आर्ची तिवारी। 21 जून को योग दिवस होता है पर इन सभी के बीच इस साल योग दिवस के दिन ही सूर्य ग्रहण पड़ रहा है. ज्योतिषाचार्यों के अनुसार सूर्य ग्रहण का सूतक आज रात 10 बजे लग जाएगा वहीं ग्रहण पड़ने का समय सुबह के 9.15 से लेकर दोपहर 3.05 तक रहेगा। इस बीच ऐसे बहुत से कार्य होते हैं जिसको करना हमारे लिए अशुभ और हानिकारक माना जाता है. तो आइए जानते हैं कि हमें ग्रहण के दौरान क्या करना चाहिए और क्या नही?

ग्रहण के समय क्या करना चाहिए

  1. शास्त्रों के अनुसार सूतक के शुरू होने से पहले ही हमें तुलसी या कुश को तोड़ कर रख लेना चाहिए। क्योंकि ग्रहण के पड़ने से खाने पीने पहनने ओढ़ने से लेकर सभी चीजें अशुध्द हो जाती है क्योंकि धरती पर ग्रहण के दौरान सबसे ज्यादा तीव्र गति से नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इसीलिए वस्तुओं की शुद्धता के लिए तुलसी और कुश का प्रयोग किया जाता है।
  2. हमें ग्रहण के दौरान अपने इष्ट देव या देवी की आराधना करनी चाहिए। यह हमारे अंदर नाकारात्मक उर्जा के प्रभाव को कम करने में मदद करता है।
  3. कोशिश करें कि ग्रहण के दौरान सत्संग जितना हो उतना परिवार और शरीर दोनों के लिए अच्छा होता है क्योंकि सत्संग के दौरान आसपास एक सकारात्मक ऊर्जा का कवच बन जाता है जो हमारी ग्रहण से आ रही नाकारात्मक उर्जा से बचने में सहायता करता है।

ग्रहण के दौरान क्या नहीं करना चाहिए

  1. ग्रहण के समय हमें भगवान का स्पर्श निषेध है इसलिए सूतक लगने से पहले ही सभी मंदिरों के द्वार बंद कर दिए जाते हैं। यह द्वार फिर ग्रहण हटने के बाद मंदिर का शुद्धिकरण होना अनिवार्य होता है। पर ग्रहण के दौरान अपने इष्ट का ध्यान करना आवश्यक है लेकिन आप ध्यान या पूजा मानसिक रूप से कर सकते हैं पर आप भगवान का ग्रहण काल तक स्पर्श नहीं कर सकते।
  2. गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए क्योंकि इससे गर्भ में पल रहे शिशु पर ग़लत प्रभाव पड़ सकता है और वह शारीरिक और मानसिक रूप से अस्वस्थ हो सकता है।
  3. गर्भवती स्त्री को ग्रहण के दौरान कोई भी धातु अपने शरीर में नहीं धारण करनी चाहिए। क्योंकि चुम्बकीय शक्ति से नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह ज्यादा तीव्र हो जाता है और मां बच्चे दोनों को ही नुकसान पहुंचा है।
  4. ग्रहण के दौरान खाना पीना बिल्कुल मना किया जाता है और अशुभ भी माना जाता है। अगर किसी कारणवश कुछ खाना या पीना पड़ भी जाए तो तुलसी को खाने में डाल कर कुछ भी ग्रहण करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here