Parle-G के बाद ब्रिटानिया ने लॉकडाउन में की डबल कमाई, हुआ बंपर मुनाफा

0
244

नई दिल्ली/सूनैना गुप्ता। कोरोना संकट और लॉकडाउन के दौरान रिकॉर्ड माँग की वजह से कुछ कंपनियों को बंपर मुनाफा हुआ है, पहले वित्त वर्ष की पहली तिमाही के मुकाबले चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज दुगना से ज्यादा लाभ हुआ है.

देश में 24 मार्च की आधी रात से लॉकडाउन लागू हो गया था, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऐलान के साथ ही देश में आवाजाही पर ब्रेक लग गया था. बस और ट्रेनें सेवाएं बदं पैमाने पर लोग पैदल ही घर के लिए निकल पड़े थे. सैकड़ों किलोमीटर की राह में प्ररावासियों के लिए बिस्किट के पैकेट मददगार साबित हुए. किसी ने खुद खरीद कर खाया , तो किसी को दूसरों ने मदद के तौर पर दिया.

बिस्किट समेत तमाम फूड प्ररोडक्ट बनाने वाली कंपनी ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज को 30 जुन 2020 को समाप्त चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 542.68 करोड़ो रुपये का लाभ हुआ हैं. यह साल भर पहले की तुलना में दो गुना से भी अधिक है. करीब 118 का उछाल दर्ज किया है.

कोरोना सकंट की वजह से लॉकडाउन के दौरान बिस्किट समेत डेयरी परोडक्ट की मांग में जबर्दस्त उछाल आई थी. बड़े पैमाने पर लोगों ने ब्रिटानिया के बिस्किट समेत दुसरे प्ररोडक्ट घर में स्टोर कर लिए थे. ताकि किल्लत न हो. पिछले दिनों पारले जी ने शानदार आय के आकड़े पेश किया थे.

ब्रिटानिया को वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही अप्रेल – जुन में 248.64 करोड़ो रुपये का लाभ था. कंपनी ने कहा कि लाभ बढने का कारण आय का अधिक रहना है. जबकि पिछले साल अगस्त में कहा था की बिक्री में गिरावट आई है. अब बाजी पलट गई है. वो भी कोरोना सकंट के बीच.

ब्रिटनिया इंडस्ट्रीज प्रबंध निर्देशक वरुण बेरी ने कहा है कि कोविड – 19 महामारी के कारण आलोच्य तिमाही ने अर्थव्यवस्था राह में व्यवधान उत्पन्न किए और महामारी की रोकथाम के लिये देश लगाए गए लॉकडाउन ने भी बाधाए पैदा की है.

उन्होने कहा कि जैसे लॉकडाउन की पाबंदियो में ढील दी गई कंपनी ने वितरण की महामारी से पहले के स्तर पर वापस लाने और ग्रामीण और भीतरी इलाके में ध्यान केंद्रित किया. वरुण बेरी ने कहा कंपनी ने मौजूदा परिस्थिति के मजेदार मांग में तेजी को देखते हुए मीडिया विज्ञापन पर किए जाने वाले सवालो को भी व्वयस्थित किया है.

पिछले महिने पारले-जी ने शानदार कारोबार का आकड़ा पेश किया था. कंपनी ने कहा था बिक्री के मामले में 82 सवालो का रिकॉर्ड टूट गया है. कंपनी का कुल मार्केट शेयर करीब 5 फीसदी बढ़ा है. और इसमे 80-90 फीसदी पारले-जी की सेल हुई थी.

कोरोना संकट और लॉकडाउन के दौरान रिकॉर्ड माँग की वजह से कुछ कंपनियों को बंपर मुनाफा हुआ है, पहले वित्त वर्ष की पहली तिमाही के मुकाबले चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज दुगना से ज्यादा लाभ हुआ है.

देश में 24 मार्च की आधी रात से लॉकडाउन लागू हो गया था, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऐलान के साथ ही देश में आवाजाही पर ब्रेक लग गया था. बस और ट्रेनें सेवाएं बदं पैमाने पर लोग पैदल ही घर के लिए निकल पड़े थे. सैकड़ों किलोमीटर की राह में प्ररावासियों के लिए बिस्किट के पैकेट मददगार साबित हुए. किसी ने खुद खरीद कर खाया , तो किसी को दूसरों ने मदद के तौर पर दिया.

बिस्किट समेत तमाम फूड प्ररोडक्ट बनाने वाली कंपनी ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज को 30 जुन 2020 को समाप्त चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 542.68 करोड़ो रुपये का लाभ हुआ हैं. यह साल भर पहले की तुलना में दो गुना से भी अधिक है. करीब 118 का उछाल दर्ज किया है.

कोरोना सकंट की वजह से लॉकडाउन के दौरान बिस्किट समेत डेयरी परोडक्ट की मांग में जबर्दस्त उछाल आई थी. बड़े पैमाने पर लोगों ने ब्रिटानिया के बिस्किट समेत दुसरे प्ररोडक्ट घर में स्टोर कर लिए थे. ताकि किल्लत न हो. पिछले दिनों पारले जी ने शानदार आय के आकड़े पेश किया थे.

ब्रिटानिया को वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही अप्रेल – जुन में 248.64 करोड़ो रुपये का लाभ था. कंपनी ने कहा कि लाभ बढने का कारण आय का अधिक रहना है. जबकि पिछले साल अगस्त में कहा था की बिक्री में गिरावट आई है. अब बाजी पलट गई है. वो भी कोरोना सकंट के बीच.

ब्रिटनिया इंडस्ट्रीज प्रबंध निर्देशक वरुण बेरी ने कहा है कि कोविड – 19 महामारी के कारण आलोच्य तिमाही ने अर्थव्यवस्था राह में व्यवधान उत्पन्न किए और महामारी की रोकथाम के लिये देश लगाए गए लॉकडाउन ने भी बाधाए पैदा की है.

उन्होने कहा कि जैसे लॉकडाउन की पाबंदियो में ढील दी गई कंपनी ने वितरण की महामारी से पहले के स्तर पर वापस लाने और ग्रामीण और भीतरी इलाके में ध्यान केंद्रित किया. वरुण बेरी ने कहा कंपनी ने मौजूदा परिस्थिति के मजेदार मांग में तेजी को देखते हुए मीडिया विज्ञापन पर किए जाने वाले सवालो को भी व्वयस्थित किया है.

पिछले महिने पारले-जी ने शानदार कारोबार का आकड़ा पेश किया था. कंपनी ने कहा था बिक्री के मामले में 82 सवालो का रिकॉर्ड टूट गया है. कंपनी का कुल मार्केट शेयर करीब 5 फीसदी बढ़ा है. और इसमे 80-90 फीसदी पारले-जी की सेल हुई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here