सुशांत की मौत के बाद नेपोटीज्म की बेहस में मनोज बाजपेई हुए शामिल

0
118

नई दिल्ली/आर्ची तिवारी। सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद बाॅलीवुड के दो हिस्सों में बहस छिड़ी हुई है जिसमें एक तरफ के लोगों का मानना है कि बाॅलीवुड में नेपोटिज्म है वही दूसरी ओर के लोगों का मानना है कि बाॅलीवुड में कोई नेपोटिज्म प्रेक्टिस नहीं होती है . कई दिग्गज कलाकार इस बहस में शामिल हैं वहीं अब मनोज बाजपेई ने भी इस बहस में अपनी भागीदारी निभाई है. WION के इंटरव्यू में कहा कि ” मैं ये पिछले 20 साल से कह रहा हूं कि हम इंडस्ट्री के तौर पर मिडियोक्रिटी का जश्न मनाते हैं. इंडस्ट्री की बात छोड़िए, एक देश के तौर पर भी हम सामान्य को सेलिब्रेट करते हैं. कहीं पर कुछ कमी है. हमारे विचारों और मूल्यों में. जब हम टैलेंट को देखते हैं, हम तुरंत उसे अनदेखा या दूर करना चाहते हैं. ये हमारे मूल्य हैं, जो बेहद खोखले हैं.’ इंडस्ट्री को खुद को चेक करने की जरुरत है.

ये भी पढ़ें पतंजलि की कोरोनिल दवाई की बिक्री पर राजस्थान के बाद अब महाराष्ट्र में भी रोक

उन्होंने कहा, ‘इंडस्ट्री ने प्रतिभा को बर्बाद कर दिया है. मैंने पहले भी कहा था कि इंडस्ट्री में काफी टैलेंट है, लेकिन उन्हें सही जगह नहीं मिल पा रही है. अगर उन्हें किसी दूसरे देश में मौका दिया जाए तो वो दुनिया के बेस्ट एक्टर्स में से एक होंगे, लेकिन हम परवाह नहीं करते हैं. ये इंडस्ट्री अपने सिद्धांतों को लेकर बहुत ठंडी है। मैं किसी पर दोषारोपण नहीं कर रहा हूं. चूंकि मैं इसी का हिस्सा हूं.”

ये भी पढ़ें लगातार 19वें दिन भी बढ़े पेट्रोल – डीजल के दाम, अखिलेश ने सरकार पर साधा निशाना

सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु के बाद उनके फैंस और बाॅलीवुड का सामान्य वर्ग नेपोटिज्म का खुलकर विरोध कर रहा है. जिनके साथ बाॅलीवुड के कुछ रंगीन सितारों ने जो भी जातियां की है वह सभी काले चिट्ठे अब खुल कर सामने आ रहे हैं. कुछ बड़ी हस्तियों ने जैसे सोनम कपूर, सोनाक्षी सिन्हा ने नेपोटिस्म की बातों का खंडन भी किया पर जनता की एक जुटता ने उन सभी के मुंह पर ताला लगा दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here