कभी नदी का पानी उबलता हुए देखा है, अगर नही तो यहां देखें, गलती से भी गिरे तो मौत तय है

0
275
pratibimbnews
pratibimbnews

नई दिल्ली/दीक्षा शर्मा। शायद ही कोई होगा जिसे नदी के किनारे बैठना पसंद ना हो.. नदी के किनारे शांति और सुकून पाने के लिए कई लोग जाते हैं.लेकिन आज हम जिस नदी के बारे में बात करने जा रहे हैं वहां शांति और सुकून का नाम तक नहीं है. उस नदी के किनारे आप चंद मिनटों के लिए नहीं बैठ सकते. अमेजन के जंगल में खौलते हुए पानी की खतरनाक नदी मिली है. इसका पानी इतना गर्म है कि यदि इंसान में इसमें कूद जाए तो जिंदा ही उबल जाएगा. आपको बता दें कि यह नदी दक्षिण अमेरिका के पेरू के जंगलों में मिली है. अमेजन वैसे भी रहस्यों से भरा जंगल है. एक ऐसा जंगल, जिसे दुनिया का सबसे बड़ा जंगल कहा जाता है, क्योंकि यह अरबों एकड़ में फैला हुआ है. यह जंगल इतना विशाल है कि यह अकेले ही नौ देशों की सीमाओं को छूता है. यह नदी दक्षिण अमेरिका के पेरू के जंगलों में है.

आखि़र क्यों चौंकाता है इस मंदिर के सातवें दरवाज़े का रहस्य, डरती है दुनिया अगर खुल गया तो….

किसने की खोज?

पेरू में मौजूद इस रहस्यमय नदी की खोज भूवैज्ञानिक आंद्रे रूजो ने साल 2011 में की थी। मयानतुयाकू नामक इस नदी की खोज की कहानी बड़ी ही दिलचस्प है. दरअसल कहा जाता है कि बचपन से ही रूजो ने ऐसी काल्पनिक नदियों की कहानियां सुन रखी थी, जो उन्हें आश्चर्य से भर देती थीं, लेकिन तब उन्हें इस बात का बिल्कुल भी अहसास नहीं था कि ऐसी नदी सच में होती है. आंद्रे रूजो के मुताबिक, जब वो बड़े हुए तो भी उबलती हुई नदी की कहानी हमेशा उनके दिमाग में रही. वो अक्सर ऐसा सोचते कि क्या ऐसा संभव है. यहां तक कि उन्होंने विश्वविद्यालय के अपने सहयोगियों, तेल, गैस और खनन कंपनियों से भी इस बारे में जानना चाहा, लेकिन सबका जवाब ना ही था. इसके अलावा अगर वैज्ञानिक तौर पर भी देखें तो ऐसा संभव ही नहीं है कि नदी का पानी हमेशा उबलता रहे, जब तक कि आसपास कोई सक्रिय ज्वालामुखी न हो.  इस असमंजस की स्थिति में एक दिन वो अमेजन के जंगलों में पहुंच गए, जहां उन्हें अपनी काल्पनिक कहानी सच होती हुई दिखी. उन्होंने आखिरकार ऐसी नदी को ढूंढ ही निकाला, जिसका पानी रहस्यमय तरीके से उबल रहा था.

पानी का तापमान

कहते हैं कि इस नदी का तापमान हमेशा 50 से 90 डिग्री सेल्सियस तक रहता है. हालंकि कुछ जगहों पर इसका तापमान 100 डिग्री तक पहुंच जाता है. रूजो के मुताबिक आप इसमें चाय भी बना सकते हैं. यह नदी 25 मीटर चौड़ी और 6 मीटर गहरी है. अगर कोई इस नदी में गलती से गिर गया तो उसकी मौत निश्चित रूप से तय है. अक्सर आस पास के छोटे जानवरों इस पानी में गिरने से मौत हो जाती है. यहां के स्थानीय निवासी इसे शनय टिम्पिश्का के नाम से बुलाते हैं, जिसका अर्थ है’ सूर्य की गर्मी से उबलने वाली नदी ‘

भारत का सबसे अनोखा मंदिर, जहां प्रवेश लेने से पहले पुरुषों को करना पड़ता है सोलह श्रृंगार

रुजो द्वारा लिखी गई किताब

रूजो ने इस नदी के बारे में ‘द बॉयलिंग रिवर: एडवेंचर एंड डिस्कवरी इन द अमेजन’ नाम की एक किताब भी लिखी है, जिसमें उन्होंने इसके रहस्यों के बारे में बताया है. उनके मुताबिक, यह नदी प्रकृति का आश्चर्य है, जिसका पानी रहस्यमय तरीके से उबल रहा है. इस बारे में वैज्ञानिक शोध कर रहे हैं, लेकिन अब तक यह पता नहीं चल सका है कि इसका पानी क्यों इतना गर्म है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here