Rahasya : सूर्योदय से पहले ही क्यों दी जाती है फांसी, जानिए इसके पीछे की असली वजह

0
391
Rahasya

नई दिल्ली/दीक्षा शर्मा। (Rahasya) जब भी किसी अपराधी को फांसी दी जाती है, तो उसका समय 4-5 के बीच निर्धारित किया जाता है. आपने इस बात पर जरूर ध्यान दिया होगा कि फांसी की सज़ा हमेशा सुबह ही दी जाती है. लेकिन आप जानते हैं ऐसा क्यों है? आखिर किन कारणों की वजह से फांसी की सजा देश में भोर में होती है.
ये सवाल अक्सर पूछा जाता रहा है कि भारत में फांसी लंबे समय से सूर्योदय से पहले  ही क्यों दी जाती है. दरअसल, अंग्रेजों शासन में भी अपराधी को फांसी की सजा सुबह सूर्योदय से पहले ही दी जाती थी.

ये भी पढ़ें Rahasya : भारत का एक ऐसा पेड़ जिसकी सुरक्षा के लिए 24 घंटे तैनात रहती है पुलिस,सालाना खर्च होते हैं 15 लाख़ रूपए

आपको बता दें कि (Rahasya) केवल भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में अपराधी को फांसी सुबह सूर्योदय से पहले ही दी जाती है. हालांकि हर मौसम के हिसाब से फांसी का समय सुबह बदल जाता है लेकिन ये समय भी तय करने का काम केंद्र और राज्य सरकारें ही करती हैं. फांसी को सुबह तड़के शांत बेला में देने की तीन वजहें भी हैं, जो प्रशासनिक, व्यावहारिक और सामाजिक पहलुओं से जुड़ी हैं.

ये भी पढ़ें Rahasya : क्या आप जानते है एक रात के लिए किन्नर भी करते हैं शादी, अगले दिन हो जाते हैं विधवा…

आमतौर पर फांसी एक खास घटनाक्रम होता है. अगर अपराधी को दिन में फांसी दी जाएगी तो सबका ध्यान उसी पर रहेगा. इससे बचने की कोशिश की जाती है ताकि जेल की दिनभर की अन्य गतिविधियों पर कोई असर नहीं पड़े. सारी गतिविधियां सुचारू तौर पर काम करती रहें.

ये भी पढ़ें Bollywood Suicide: केवल सुशांत सिंह राजपूत ही नहीं, इन 4 अभिनेत्रियों की आत्‍महत्या भी बनी हुई है रहस्य

यह भी माना जाता है कि जिस अपराधी को फांसी दी जाती है, उसका मन सुबह के समय में ज्यादा शांत रहता है. सुबह सुबह अपराधी शारीरिक तनाव और दबाव का शिकार नहीं होता.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here