दुनिया का ऐसा रहस्यमय कुंड, जहां आपदा के समय बढ़ जाता है जल का स्तर..

0
287
pratibimbnews
pratibimbnews

नई दिल्ली/ दीक्षा शर्मा।भारतीय संस्कृति कई गुप्त रहस्य और चमत्कारों को अपने अंदर समेटे हुए है. यह सारे मर्म अपनी अपनी गाथाओं और महत्व के लिए प्रसिद्ध हैं. सबकी अलग अलग मान्यताएं है. यह आस्था, विश्वास और श्रद्धा प्राचीन समय से चलती आ रही हैं. भारत में ऐसा कुंड है जो देखने में तो साधारण लगता है, लेकिन इसकी खासियत के बारे में जानकर आप चौंक जाएंगे.

सिर्फ़ पोर्न वेबसाइट्स ही नहीं, दुनिया के इन देशों में ये चीजें भी बैन हैं

भीम कुंड की मान्यता

यह रहस्यमयी भीम कुंड मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले से 70 किलोमीटर दूर बाजना गांव में स्थित है. इस कुंड की मान्यता के बारे में कहा जाता है कि जब पांडव अज्ञातवास में थे और वो अपना रास्ता भटक गए थे. जब भीम ने अपने गदा से मारकर यहां कुंड बनाया जिसके कारण यहां पानी आ गया. लोगों का कहना है कि यह कुंड का आकार बिल्कुल गदा जैसा ही है. वहीं यह कुंड देखने में 40-80 मीटर चौड़ा है. इस कुंड को नील कुंड और नादर कुंड के नाम से भी जाना जाता है.

प्राकृतिक आपद आने पर देता है संकेत

यह कुंड देखने में तो बिल्कुल साधारण सा लगता है, लेकिन इसकी खासियत आपको हैरान कर देगी. इस कुंड के बारे में कहा जाता है कि जब भी एशियाई महाद्वीप में कोई प्राकृतिक आपका (बाढ़, तूफान, सुनामी) घटने वाली होती है, कुंड के पानी का स्तर खूब बढ़ने लगता है.
नोएडा और गुजरात में आए भूकंप के दौरान भी यहां जलस्तर बढ़ा था. सुनामी के दौरान तो यह जलस्तर 15 फीट ऊपर तक आ गया था. इसलिए स्थानीय लोग यहां प्राकृतिक आपदा की आशंका पहले ही लगा लेते हैं.

इस मंदिर में आखि़र क्यों रोते हैं भगवान, वैज्ञानिक भी नहीं उठा पाए इस रहस्य से पर्दा

कभी कम नहीं होता जलस्तर

देखने में बिल्कुल सामानय लगने वाले भीमकुंड की एक खासियत यह भी है कि भरपूर उपयोग के बाद भी इस कुंड का पानी कभी कम नहीं होता है. स्थानीय लोगों का कहना है कि कई बार यहां वाटर पंप लगाकर भी कुंड को खाली करने की कोशिश की गई लेकिन पानी का लेवल कम नहीं हुआ. वैज्ञानिक शोध के दौरान यह भी नहीं पता लगा पाए कि आखिर लगातार इसमें पानी कहां से आ रहा है. इतना ही भी इसका जल हमेशा साफ और स्वच्छ रहता है. इसमें काफी गहराई तक की चीजें साफ दिखती हैं और जब सूर्य की रोशनी इस कुंड पर आती है तब बहुत ही मनमोहक दृश्य दिखता है.

कोई नहीं नाप सका कुंड की गहराई

भीमकुंड की गहराई नापने के लिए इसमें कई बार गोताखोरी भी कराई गई लेकिन हर बार गोताखोर इसमें नाकाम साबित होते हैं. कोई भी गोताखोर आज तक इस रहस्यमयी कुंड की तली तो छू नहीं पाया है. एक नामी रिसर्च चैनल की टीम ने भी एक बार अपनी टीम को यहां भेज कर शोध कराना चाहा लेकिन शोधकर्ताओं की टीम इसकी गहराई नहीं पता कर पाई.

यहां का नजारा मन मोह लेता है

भीम कुंड एक गुफा में स्थित है. जब आप सीढ़ियों से अंदर कुंड की तरफ जाते हैं, तो यहां पर कुंड के चारों तरफ पत्थर ही पत्‍थर दिखाई देते हैं. यहां लाइट भी कम होती है, लेकिन यहां का नजारा हर किसी का मन मोह लेता है. भीम कुंड के ठीक ऊपर बड़ा-सा कटाव है, जिससे सूर्य की किरणें कुंड के पानी पर पड़ती हैं. सूर्य की किरणों से इस जल में अनेक इंद्रधनुष उभर आते हैं.

एक ऐसी अनोखी झील का रहस्य, जहां तैरते हैं सैकड़ों कंकाल

विज्ञान क्यों हैरान हैं?

कई वैज्ञानिकों ने इस पर रिसर्च करके पता लगाने की कोशिश की कि इसका जल इतना साफ और स्वच्छ कैसे है? और इसकी गहराई भी जानना चाही लेकिन आज तक कोई भी इसके रहस्य को सुलझा नहीं पाया है. एक बार जब गोताखोर इसके अंदर गए थे तो उन्होंने बताया था कि अंदर 2 कुएं जैसे बड़े छिद्र हैं एक से पानी आता है और दूसरे से वापस जाता है. और उसकी स्पीड भी बहुत तेज है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here