सुबह उठते ही चलाते हैं मोबाइल फोन, तो हो जाइए सावधान, वरना पड़ सकता है महंगा.

0
257

नई दिल्ली/दीक्षा शर्मा। आजकल मोबाइल फोन के बिना किसी का काम नहीं चलता है. मोबाइल ने कई तरह से काम आसान कर दिए हैं, लेकिन यह एक लत के समान भी हो चुका है. लोग फोन का इतना ज्यादा इस्तेमाल करने लगे हैं कि अब तो रात को सोते-सोते मोबाइल देखते हैं और सुबह उठते ही पहला काम मोबाइल चेक करना होता है. लेकिन सुबह उठते ही मोबाइल का इस्तेमाल सेहत के लिए अच्छा नहीं है. साथ ही यह और भी तरह से नुकसान पहुंचाता है. इसके अलावा सुबह उठते ही फोन देखना कई तरह के रोगों को बढ़ावा देना है.

तनाव और चिंता

हमेशा अपने दिन की शुरुआत बिना किसी तनाव और चिंता के शांति से करना बेहतर होता है. अगर सुबह उठते ही मोबाइल हाथ में लिया तो फोन मैसेजेस, ई-मेल्स, रिमांडर, इंस्टाग्राम पोस्ट्स आदि से भरा होता है, जो चिंता और तनाव की वजह बन सकता है. नींद से उठते ही अगर सोशल मीडिया चेक करने लगते हैं तो दिमाग उसी में बंध जाता है और गैर-जरूरी जानकारियों से भर जाता है. दिन की शुरुआत तनाव और चिंता से करना सेहत के लिए ठीक कतई नहीं है. आप फोन इस्तेमाल करने की जगह कोई अच्छी किताब भी पड़ सकते है.

चिड़चिड़ापन बढ़ता है

सुबह उठते ही मोबाइल फोन चेक करते हैं तो न चाहते हुए भी चिड़चिड़ापन आ जाता है. सुबह के रूटीन की शुरुआत मोबाइल से होने पर स्वभाव में बदलाव आ सकता है. इसका कारण यही है कि सुबह उठकर मोबाइल में अलग कोई ऐसी बात देख ली जो नकारात्मक है तो इसका सीधा असर मूड पर पड़ता है. बात-बात पर गुस्सा आना भी इसकी वजह से हो सकता है. आप सुबह उठ कर थोड़ी देर व्यायाम भी कर सकते जो अपनी सेहत और दिमाग दोनों के लिए बेहतर है.

कार्यक्षमता पर असर

सुबह का पहला काम मोबाइल देखना हो तो नोटिफिकेशन देखने के बाद कई बाद दिमाग उसी विषय में सोचने लगता है। इससे दूसरे काम में मन नहीं लगता और ऐसा होने पर कार्यक्षमता पर असर पड़ता है.

डिप्रेशन की आकांक्षा

रात को सोते समय भी मोबाइल और उठते समय भी मोबाइल देखने वालों के साथ तो स्थिति और खराब हो सकती है. नियमित रूप से ऐसा रूटीन फॉलो करने वाले डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं. इसकी वजह तुलना भी हो सकती है. सुबह उठते ही फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सऐप स्टेटस आदि देख लेने से कई बार लोग तुलना में फंस जाते हैं. दूसरों की जीवनशैली देखकर परेशान हो जाते हैं और खुद से तुलना करने लगते हैं, जिसकी वजह से डिप्रेशन की स्थिति तक आ सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here