महत्मा गांधी करते थे खाने में इन चीजों का सेवन, कई बड़े राजनेता भी थे प्रभावित

0
259
Mahatma Gandhi

नई दिल्ली/ दीक्षा शर्मा। यह तो हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए सही आहार लेना बेहद जरूरी है. लोग फिट रहने के लिए क्या कुछ नहीं करते. अक्सर लोग खाने के मामले में आज भी कई बार महात्मा गांधी जी की कही बातें याद करते हैं. महात्मा गांधी हमेशा से ही फीट और हंदुरुस्थ थे, इस कारण कई लोग उनसे प्रभावित रहते थे. गांधी जी ने अपनी डाइट पर भी कई तरह के प्रयोग किए थे. इन प्रयोगों के बारे में उन्हाेंगे यंग इंडिया और हरिजन समाचार पत्रों में भी लिखा था. इनका संकलन एक किताब ‘Diet and Diet Reform’ में किया गया है जो गांधी सेवाग्राम द्वारा पब्लिश की गई है. लेकिन क्या आप जानते हैं गांधी जी इसी क्या डाइट लेते थे जिससे वह कभी बीमार नहीं पड़े.

महात्मा गांधी अक्सर कहते थे कि हफ्ते में एक दिन का उपवास जरूरी है. उनके खाने में हमेशा शाकाहारी भोजन शामिल रहता था. इसके अलावा वह अपनी सेहत का भी खूब ध्यान रखते थे.

गांधी जी अपने पूरे दिन में दो बार गुनगुने पानी में नींबू और शहद डालकर पीते थे. उनके दिन की शुरुआत गुनगुने पानी में नींबू और शहद के साथ ही होती थी. उनका मानना था कि इससे पीने से पूरे दिन शरीर में ऊर्जा बनी रहती है.

बापू अपने सुबह के नाश्ते में पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने के लिए अंकुरित चना या गेंहू जरूर लेते थे. गांधी जी के जानकारों के मुताबिक बापू ताउम्र शाकाहारी रहें. उन्हें हरी सब्जियां और फल काफी पसंद थे. वह अक्सर हरी सब्जियों को उबाल कर खाते थे. खाने में वह हमेशा रोटी और दाल चावल पसंद करते थे.इसके अलावा गांधी जी रोजाना खीरा, हरे पत्ते वाली सब्जियां और मूली भी खाते थे.

महात्मा गांधी रोजाना बादाम और किशमिश जरूर खाते थे. इसके अलावा अपनी हड्डियों को मजबूत रखने के लिए हमेशा बकरी का दूध भी लेते थे. वह रोज 10 किमी तक चलते थे. 5 फीट 5 इंच लंबे गांधीजी का वजन साल 1939 में 46 किलो था. सोने की बात करें तो वह महज 5 घंटे की नींद लेते थे. वैसे तो उन्हें ब्लड प्रेशर, शुगर और किडनी से जुड़ी समस्याएं थीं, लेकिन उन्होंने हमेशा अपने आप को स्वस्थ बनाए रखा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here