Rahasya : स्वतंत्रता दिवस के दिन लाल किले पर ही क्यों फहराया जाता है तिरंगा, जानें मुख्य कारण

0
568
Rahasya

नई दिल्ली/दीक्षा शर्मा। Rahasya : आज से 74 साल पहले हमारा भारत ब्रिटिश हुकूमत से आज़ाद हुआ था.पूरा भारत आज यानी स्वतंत्रता दिवस के दिन आज़ादी के जश्न में डूबा हुआ है.आज ही के दिन 1947 में ब्रिटिश सरकार की 200 साल चली गुलामी से आज़ादी मिली थी और आज़ाद भारत का सूरज देखा था.अगर आपने ध्यान दिया हो तो आप यह जानते होंगे कि हर वर्ष स्वतंत्रता दिवस के दिन प्रधानमंत्री द्वारा लाल किले पर ही तिरंगा फहराया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं ऐसा क्यों है? आज़ादी के जश्न के लिए लाल किले को ही क्यों चुना गया?

पीएम मोदी ने बताया भारत में कब बनेगी कोरोना की वैक्सीन, पढ़ें पूरी खबर

हर साल की तरह इस बार भी देश के प्रधानमंत्री द्वारा लाल किले पर झंडा फहराया जाएगा. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले पर झंडा फहराने की परंपरा उतनी ही पुरानी है जितनी पुरानी इस देश की आजादी.

Rahasya
स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले के प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भूतपूर्व प्रधानमंत्री नेहरू ने की थी शुरुआत

Rahasya : भारत का एक ऐसा पेड़ जिसकी सुरक्षा के लिए 24 घंटे तैनात रहती है पुलिस,सालाना खर्च होते हैं 15 लाख़ रूपए

आज़ाद भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भी लाल किले पर ही तिरंगा फहराया था. उसके बाद यह परम्परा चलती रही और नेहरू के निधन के बाद लाल बहादुर शास्त्री ने भी इस परम्परा को जारी रखा.
दरअसल, आज़ादी की लड़ाई में लाल किला महत्त्वपूर्ण केंद्र रहा. जानकारी के लिए बता दें कि लाल किला परिसर का निर्माण भारत के पांचवे मुगल बादशाह शाहजहां की नई राजधानी-शाहजहांबाद के महल किले के रूप में किया गया था.

प्लाज्मा बैंक का सबसे बड़ा हब बना लखनऊ, जानिए क्या क्या सुविधाएं होंगी

1857 के पहले स्वतंत्रता संग्राम का केंद्र भी लाल किला ही था. उस वक्त क्रांतिकारियों का नेतृत्व कर रहे आखिरी मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर को अंग्रेजों ने गिरफ्तार कर म्यांमार भेज दिया था.

स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस ने रंगून में आजाद हिन्द फौज का गठन किया था तब उन्होंने ‘दिल्ली चलो’ का नारा दिया था और लाल किले पर दोबारा कब्जा हासिल करने का आह्वान किया था. इसके अलावा 200 सालों की लंबी गुलामी के बाद देश जब आजाद हुआ तो उसका जश्न भी लाल किले पर ही मनाया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here