राज्यसभा में बोले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह – हमारे जवान किसी भी संकट का सामना करने के लिए सक्षम

0
169
pratibimb news
pratibimb news

नई दिल्ली/आशीष भट्ट। भारत और चीन का तनाव जारी है, संसद का मानसून सत्र चल रहा है, आज राज्यसभा में केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि, सदन इस बात से अवगत है कि भारत और चीन सीमा का प्रश्न अभी तक अनसुलझा है। भारत और चीन की बाउंड्री का कस्टमरी और ट्रेडिशनल अलाइनमेंट चीन नहीं मानता है। यह सीमा रेखा अच्छे से स्थापित भौगोलिक सिद्धांतों पर आधारित है, चीन मानता है कि बाउंड्री अभी भी औपचारिक तरीके से निर्धारित नहीं है। उसका मानना है कि हिस्टोरिक्ल जुरिस्डिक्शन के आधार पर जो ट्रेडिश्नल कस्टमरी लाइन है उसके बारे में दोनों देशों की अलग व्याख्या है। 1950-60 के दशक में इस पर बातचीत हो रही थी पर कोई समाधान नहीं निकला.

ये भी पढ़ेंं पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर सीएम योगी ने दिया खास तोहफा, पढ़ें पूरी खबर

राजनाथ सिंह ने आगे कहा, सदन को जानकारी है कि पिछले कई दशकों में चीन ने बड़े पैमाने पर इन्फ्रास्ट्रक्चर एक्टिविटी शुरू की है, जिससे बॉर्डर एरिया में उनकी तैनाती की क्षमता बढ़ी है, इसके जबाव में हमारी सरकार ने भी बॉर्डर इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास का बजट बढ़ाया है, जो पहले से लगभग दोगुना हुआ है, यह सच है कि हम लद्दाख में एक चुनौती के दौर से गुजर रहे हैं लेकिन साथ ही मुझे भरोसा है कि हमारा देश और हमारे वीर जवान इस चुनौती पर खरे उतरेंगे। मैं इस सदन से अनुरोध करता हूँ कि हम एक ध्वनि से अपनी सेनाओं की बहादुरी और उनके अदम्य साहस के प्रति सम्मान प्रदर्शित करें, इस सदन से दिया गया, एकता व पूर्ण विश्वास का संदेश, पूरे देश और पूरे विश्व में गूंजेगा, और हमारे जवान, जो कि चीनी सेनाओं से आंख से आंख मिलाकर अडिग खड़े हैं, उनमें एक नए मनोबल, ऊर्जा व उत्साह का संचार होगा.

ये भी पढ़ेंं कोरोना के कारण पूर्व पीएम समेत कई सांसद मानसून सत्र में नहीं लेंगे हिस्सा

रक्षा मंत्री ने आगे कहा कि, मैं देशवासियों को यह विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि हमारे Armed Forces के जवानों का जोश एवं हौसला बुलंद है, और हमारे जवान किसी भी संकट का सामना करने के लिए दृढ़ प्रतिज्ञ हैं। इस बार भी, सीमा पर हमारे वीरों ने, किसी भी प्रकार की आक्रामकता दिखाने की बजाय,धैर्य और साहस का परिचय दिया, हमारे यहाँ कहा गया है, कि ‘साहसे खलु श्री वसति।हमारे सैनिक तो साहस के साथ-साथ संयम-शक्ति, शौर्य और पराक्रम की जीती-जागती प्रतिमूर्ति हैं।प्रधानमंत्रीजी के बहादुर जवानों के बीच जाने के बाद हमारे कमांडर तथा जवानों में यह संदेश गया है कि देश के 130 करोड़ देशवासी जवानों के साथ हैं.

ये भी पढ़ेंं Happy Birthday Narendra Modi : पीएम मोदी के 70वें बर्थ डे पर बधाई देने वालों का लगा तांता, देखिए किसने क्या लिखा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here