पहली बार होगी बाबा बर्फानी की लाइव आरती, इस चैनल पर देख सकते हैं

0
171

नई दिल्ली/आर्ची तिवारी। हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु अमरनाथ की यात्रा पर जाते हैं. लेकिन कोरोना वाइरस के चलते अभी हर जगह आना जाना बंद है. पर सरकार ने श्रृद्धा और भावनाओं को ध्यान में रखते हुए कुछ अखाड़ों के संतों और श्रृद्धालुओं को जाने की अनुमति दे दी है परन्तु ऐसे अभी कई भक्त हैं जो इस बार इस महामारी के चलते नहीं जा पाते हैं. उन लोगों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने अमरनाथ की आरती को लाइव श्रृद्धालुओं को दर्शन कराने का प्रबंध किया है.

ये भी पढ़ें CoronaUpdate : पिछले 24 घंटों में कोरोना के सबसे ज्यादा 17,296 नए मामले आए

कब और किस चैनल पर होगा प्रसारण


अमरनाथ की यात्रा की इच्छा रखने वाले भक्तों के लिए सरकार ने आरती का लाइल प्रसारण की व्यवस्था की है. आपको बता दें कि पांच जुलाई (व्यास पूर्णिमा) से 3 अगस्त (रक्षाबंधन) तक सुबह व शाम दोनों वक्त की आरती का दूरदर्शन पर सीधा प्रसारण होगा. पवित्र गुफा से 1.2 किलोमीटर दूर निचली गुफा के पास नया हैलीपैड बनाया जा रहा है. पहलगाम डेवलपमेंट अथॉरिटी को 30 जून तक इसका काम पूरा कर लेने को कहा गया है.

व्यवस्थाओं की समीक्षा


यात्रा के प्रस्थान की जानकारी अभी तक श्राइन बोर्ड की तरफ से नहीं दी गई है पर निश्चित ही जल्द यात्रा से संबंधित सभी जानकारियां सही समय पर मिल जाएगी. उप राज्यपाल जीसी मुर्मू ने मंगलवार को राजभवन में उच्च स्तरीय बैठक कर अमरनाथ यात्रा की तैयारियों की समीक्षा की. बैठक में बताया गया कि पारंपरिक बालटाल ट्रैक को 80 फीसदी तक क्लियर कर लिया गया है.

ये भी पढ़ें कल आएगा यूपी बोर्ड (U.P Board) का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

वहीं श्राइन बोर्ड ने बताया कि शिविर और अन्य ठहरने की व्यवस्था पहले से ही हो चुकी है. वहीं मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम ने यात्रा के लिए नोडल विभाग श्राइन बोर्ड व पर्यटन विभाग से यात्रा के लिए आवश्यक सभी सुविधाओं व व्यवस्थाओं को पूरा करने को कहा. उपराज्यपाल ने बोर्ड और संबंधित विभागों से यात्रा के लिए जरूरी सभी बुनियादी सुविधाओं का प्रबंध करने को कहा। स्वास्थ्य, बुनियादी ढांचे, राशन, एलपीजी आपूर्ति, बिजली, पेयजल, सुरक्षा व्यवस्था, दूरसंचार, आपदा प्रबंधन आदि सहित सभी बुनियादी तैयारियों को सुनिश्चित करने पर जोर दिया. जानकारी के लिए बता दें कि यात्रा को 23 जून में प्रारंभ करने का प्रस्ताव था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here